ड्राइविंग लाइसेंस-Aadhaar को लिंक करना हुआ आसान, जानिए क्या है पूरा प्रोसेस

आधार कार्ड को भारत में नागरिकों की पहचान के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है और कई सरकारी योजनाओं से जुड़े होने के चलते यह महत्वपूर्ण पहचान डॉक्यूमेंट बन चुका है. हालांकि, आधार भारत में नागरिकता की पहचान का प्रमाण नहीं है, लेकिन यह आवास और पहचान बताता है. साथ ही यह पक्का करने के लिए कि सरकारी योजनाओं का लाभ सही लोगों को मिले, आधार को कई योजनाओं के साथ जोड़ा गया है. आधार वेरिफिकेशन के बाद ही कार्ड धारकों को कई योजनाओं का लाभ मिलता है.


सरकार ने ड्राइविंग लाइसेंस से आधार कार्ड को लिंक करने की प्रक्रिया भी आसान कर दी है. राजमार्ग एवं सड़क परिवहन मंत्रालय की तरफ से ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जाता है. सरकार ने इसे आधार के साथ लिंक करवाने के लिए नागरिकों को आसान विकल्प दिया है. आप चाहें तो ऑनलाइन कुछ स्टेप्स फॉलो करके ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से लिंक कर सकते हैं. इसके लिए आपको ये स्टेप्स फॉलो करने होंगे.
लिंक कराने का प्रोसेस- 
  • आपको सबसे पहले sarathi.parivahan.gov.in वेबसाइट पर जाना होगा.
  • अब आपका डीएल जिस राज्य का उसे सलेक्ट करना होगा.
  • अब आपके सामने एक विंडो ओपन होगी.
  • यहां पर दाहिनी ओर मेन्यू बार में  Apply Online पर क्लिक करें. 
  • इसके बाद Services on Driving Licence (Renewal/Duplicate/Aedl/Others) पर क्लिक करें. 
  • अब आपके सामने एक नई विंडो ओपन होगी. यहां फिर से अपने लाइसेंस वाले से राज्य की डिटेल देनी होंगी. भरने के बाद Continue पर क्लिक करें. 
  • यहां अपना ड्राइविंग लाइसेंस नंबर डालें और डेट ऑफ बर्थ डालें, इसके बाद 'गेट डीटेल्स' टैब पर क्लिक करें. 
  • अपने ड्राइविंग लाइसेंस के डीटेल्स दिख जाएगी. इसके बाद प्रोसिड पर क्लिक करना होगा. 
  • अब 12 अंको का आधार नंबर और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर यहां डालें.
  • ध्यान रहे कि यह वही मोबाइल नंबर होना चाहिए जो आपने आधार के साथ लिंक करवाया है. सबमिट कर दें.
  • इसके बाद एक OTP आएगा, जिसे एंटर करने के बाद कन्फर्म करना होगा.
  • डीटेल्स कन्फर्म होने के बाद ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर पर कन्फर्मेशन मेसेज मिल जाएगा.
क्या हैं फायदे?
ड्राइविंग लाइसेस को आधार से लिंक करने के कई फायदे हैं. इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि गैर कानूनी लाइसेंस पर रोक लगेगी. कई लोग एक से ज्यादा ड्राइविंग लाइसेंस रखते हैं, वहीं कानून के मुताबिक एक व्यक्ति केवल एक ही लाइसेंस रख सकता है. फेक ड्राइविंग लाइसेंस रखने का वालों का बेहद आसानी से पता लगाया जा सकेगा. किसी हादसे या वाहन चोरी होने की स्थिति में भी लाइसेंस होल्डर का पता लगाया जा सकेगा.
क्या ड्राइविंग लाइसेंस से आधार लिंक करना जरूरी है
फिलहाल ड्राइविंग लाइसेंस को आधार कार्ड से लिंक करना जरूरी नहीं है. यह स्वैच्छिक है. फिलहाल, सेफ्टी के लिए आप अपने आधार को डीएल से लिंक करा सकते हैं.

Post a comment

0 Comments